26.1 C
Bhubaneswar
March 3, 2024
Blog

Breathing: सांस लेने और छोड़ने की क्रिया से मन स्थिर हो जाता है, प्रणी दीर्घायु हो जाता है, व्यक्ति को दिव्य शक्ति प्राप्त होती है

Breathing: सांस लेने और छोड़ने की क्रिया से मन स्थिर हो जाता है, प्रणी दीर्घायु हो जाता है, व्यक्ति को दिव्य शक्ति प्राप्त होती है: दोस्तों नमस्कार, आज हम इस लेख के माध्यम से सांस लेने और छोड़ने की क्रिया, और सांस लेने से हमारे मन, मस्तिष्क, सोच, विचारों, चिंता, चेतना और अंगों में रक्त संचार का क्या असर पड़ता है, इसके बारे में बात करेंगे। बात शुरू होती है आज से हजार वर्षों पहले भारत के महान ऋषि (Rishi) मुनियों ने सांस लेने और छोड़ने के ऊपर शोध करना शुरू कर दिया था। सांसो की क्रिया को अनुसंधान के बाद इनको ज्ञान हुआ कि अगर सांसो को संतुलित करे तो कोई भी मनुष्‍य दीर्घायु हो सकता है। उन्होंने नासाग्र पर नजर रखके सांसों पर पकड़ बनानाने की रहस्य बताए।

इसे देखा जाए तो मनाब सरिर में 72000 नाडी अंकुर की तारा फैलते हैं। जिनमेसे 24 प्रधान नाडी हैं। 10 अति प्रधान नाडी है। इनमेसे 3 अतिशय प्रधान नाडी है। जो बायीं नासिका से निकलती बायु है बो इड़ा नाडी अर्थात चंद्र नाड़ी, जो दाहिनी नासिका से निकलती बायु है बो पिंगला नाड़ी अर्थात सूर्य नाड़ी और जो बाएँ और दाएँ दोनों नासिका से समान बायु निकलती है बो सुषुम्ना नाड़ी है। जिस नासिका से 75% बायु निकलता है स्वर करते हैं।

यदि आप योग, प्राणायाम और ध्यान के जरिए, सांस लेने की प्रक्रिया पर ध्यान केंद्रित करते हैं, श्वास अन्दर लेने की तुलना में श्वास बाहर छोड़ने में लगभग दुगुना समय लगाये, तो हमारे अहितकर चक्र से माली दूर करने में सहज होगा। इसी तरह धीमी और गहरी सांस लेने और छोड़ने श्वसन प्रक्रिया से मन को शांत, स्थिर तथा एकाग्र बनाया जा सकता है। यदि आप सांसों की गति को नियंत्रित करके, धीमा और गहरी सांस लेने का अभ्यास करते हैं, तो इससे हृदय गति की अस्थिरता में सुधार होता है। हमारे मस्तिष्क के आकार में वृद्धि होती है। सांस लेने और छोड़ने की गति अधिक तेज हो जाती तो हमारे शारीरिक, मानसिक तथा भावनात्मक अवरोध जन्म लेते हैं। इसलिए तन और मन दोनों में नकारात्मक विचार प्रभाव डालता है।

सांस लेने की क्रिया: एसे देखा जाये तो सांस लेने की क्रिया को (Breathing-श्वास लेना यानी पूरक) कहा जाता है। जो ऑक्सीजन को हमारे फेफड़ों के द्वारा बिभिर्न अंगों और कोशिकाओं तक पहचाता है। श्वास को अंदर रोकने की क्रिया को आंतरिक कहते हैं। 

सांस छोड़ने की क्रिया: सांस छोड़ने की क्रिया को (Exhaling-श्वास छोड़ना यानी रेचक) कहा जाता है। जो कार्बन डाइऑक्साइड को शरीर से बाहर वातावरण में निकालने की क्रिया को प्रश्वास कहलाती है। श्वास को बाहर रोकने की क्रिया को बाहरी कुम्भक कहते हैं।

व्यक्ति दिन भर कितने बार सांस लेता छोड़ता है: आमतौर पर सामान्य व्यक्ति हर मिनट 15 बार सांस लेते और छोड़ते है। इस तरह हम पूरे दिन में लगभग 21,600 बार सांस लेने और छोड़ने की प्रक्रिया करते है।

नोट : किसी भी बीमारी का पूर्ण उपचार के लिए इस सांस लेने और छोड़ने की क्रिया (प्राणायाम) को करने से पहले कोई योग विशेषज्ञ से सलाह जरूर ले।

यह भी देखें: Om Krishnaya Vasudevaya Haraye

सांस लेने और छोड़ने की क्रिया से मन स्थिर हो जाता है:

ईश्वर ने सभी मनुष्य को शक्ति प्रदान किया है कि अपने उमर को बढ़ा सके। मनुष्य को सांस की विज्ञान को समझना होगा। अगर आप अपने सांस को समझ गई तो आपके शरीर में होने बाली सभी बिमारिया को सांस की माध्यम से सही किआ जा सकता है। सांसों पर पकड़ बनाने के लिए हम सुबह, दोपहर, शाम और रात को 15 मिनट प्राणायाम करने से अपने तन, मन, जीवन को स्वस्थ और सुखमय बना सकते हैं। मानसिक शांति के लिए योग, मेडिटेशन, और सकारात्मक विचारों का अभ्यास कर सकते हैं। शारीरिक स्वास्थ्य के लिए सही आहार, व्यायाम और पर्याप्त आराम कर सकते हैं।

इसे भी पढ़े : समस्त कष्टों से मुक्ति के लिए ॐ कृष्णाय वासुदेवाय मंत्र

प्रणी दीर्घायु हो जाता है:

सांस स्थिर होने से मन स्थिर हो जाता है, और प्रणी दीर्घायु हो जाता है। जब हमारा मन शांत होता है, तो हमारे मस्तिष्क पर तनाव का प्रभाव कम होता है। देखा जाए तो भोजन करते समय सांस की लंबाई 16 से 17 इंच होती है। चलते समय इसकी लम्बाई 22 से 24 इंच हो जाता है। दौड़ते समय निकलने बाली स्वाश को लम्बाई 45 से 50 इंच हो जाती है। सोते समय निंद में बहार निकल ने बाली स्वाश की लंबाई 60 से 70 तक पहुंच जाती है। दोस्तो आपको नाभि तक सांस महेसस होना चाहिए। प्राचीन शास्त्र के अनुसार यदि प्राण बयु की लम्बाई आधा इंच कम हो जाए तो व्यक्ति के भीतर से काम बसवाना खत्म हो जाता है।

सांस की गति एक इंच कम होने पर आनंद की प्राप्ति होती है, और लेखन शक्ति बढ़ जाती है। दो इंच कम होने से बाक सीधी प्राप्त होती है। ढाई इंच कम होने से दूर दृष्टि प्राप्त होती है। 6 से 7 इंच कम होने से तीव्र गति से चलने की शक्ति प्राप्त होती है। बो कुछ पलो में एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहंच जाते हैं। रहस्य ए है कि शरीर के अंदर जाने बाली सांस की लम्बाई कम होती है, और बाहर जाने बाली सांस की लम्बाई जादा होती है। अगर बाहर जाने बाली प्राण बियु को कम कर दिया जाए तो लंबी उम्र को प्राप्त किया जा सकता है।

इसे भी पढ़े : ओम का अर्थ, उत्पत्ति, महत्व, उच्चारण, जप करने का तरीका और चमत्कार

व्यक्ति को दिव्य शक्ति प्राप्त होती है:

सांस की गति 8 इंच कम होने से साधक को अष्ट सिधिया प्राप्त होती है। राम भक्त हनुमान जी ने 8 सिधियों को प्राप्त किये थे। इसलिए इनको अष्ट सिधि नव निधि के दाता कहा जाता है। इसी आठ सिधिया हर इंसान में होती है, बस जरूरी है इसे जागृत करने की। सांस की लम्बाई 10 से 12 इंच कम होने पर बयक्ति जबतक चाये खुदको जिबित रख सकती है। मतलब इच्छा मृत्यु प्राप्त होती है। सबसे पहले सांसो पर नियंतरण करना सीखिए। रात में इड़ा और दिन में पिंगला नाड़ी रोक ने में सफल हो जाते तो, असल में आप सच्चा योगी बन सकते।

इसे भी पढ़े : भजगोविन्दं भजगोविन्दं गोविन्दं भज मूढमते

आप उस बिधि को पालन करके आपके शरीर को सही कर सकते। आपको एक स्थान पर आँखे बंद करके बैठ कर अपने स्वस को अपने सीने से नहीं नाभी से लेना है। जितनी गहरी स्वास आप ले सकते हैं उतना अच्छा है। इसी तरह आपके शरीर के हर अंग में ऑक्सीजन का लेवल बढ़ सकते है। अगर अप्प ब्रह्म मुहूर्त में करता है तो आपको दिव्य शक्ति प्राप्त होती है।

यदि आप गुरु से दिए गए नाम रूपी दिव्यास्त्र को,
सांस रूपी तीर से,
नासाग्र रूपी धनुष पर रखके,
कोशिकाओं पर रोग सृष्टि करने बाले रावण रूपी राक्षस के ऊपर प्रहार करे,
तो धीरे-धीरे शरीर में सुधार आना शुरू हो जायेगा।

इसके पश्च्यात सोचे परमात्मा आपके सामने खड़े हैं,
आप नतमस्तक हो कर इनके चरणों में प्रणाम करते हैं।
ऐसा भाव भरो की आपकी माथे से प्रेम की गंगा जल निकालकर,
प्रभु के चारणो को धो दे रही है।
अनुभव करे परमात्मा आपकी भक्ति से प्रसन्न होकर,
आपके हृदय में आकर बैठ जाते हैं।

 

इसे भी पढ़े : अमृत ​​है हरि नाम जगत में

Disclaimer : Bhakti Bharat Ki / भक्ति भारत की (https://bhaktibharatki.com/) किसी की आस्था को ठेस पहुंचना नहीं चाहता। ऊपर पोस्ट में दिए गए उपाय, रचना और जानकारी को भिन्न – भिन्न लोगों की मान्यता और जानकारियों के अनुसार, और इंटरनेट पर मौजूदा जानकारियों को ध्यान पूर्वक पढ़कर, और शोधन कर लिखा गया है। यहां यह बताना जरूरी है कि (https://bhaktibharatki.com/) किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पूर्ण रूप से पुष्टि नहीं करता। किसी भी बीमारी का पूर्ण उपचार के लिए सांस लेने और छोड़ने की क्रिया (प्राणायाम) को करने से पहले योग विशेषज्ञ से सलाह जरूर लें।

हमारे बारें में : आपको Bhakti Bharat Ki पर हार्दिक अभिनन्दन। दोस्तों नमस्कार, यहाँ पर आपको हर दिन भक्ति का वीडियो और लेख मिलेगी, जो आपके जीवन में अदुतीय बदलाव लाएगी। आप इस चैनल के माध्यम से ईश्वर के उपासना करना (जैसे कि पूजा, प्रार्थना, भजन), भगवान के प्रति भक्ति करना (जैसे कि ध्यान), गुरु के चरणों में शरण लेना (जैसे कि शरणागति), अच्छे काम करना, दूसरों की मदद करना, और अपने स्वभाव को सुधारकर, आत्मा को ऊंचाईयों तक पहुंचाना ए सब सिख सकते हैं। भक्ति भारत की एक आध्यात्मिक वेबसाइट, जिसको देखकर आप अपने मन को शुद्ध करके, अध्यात्मिक उन्नति के साथ, जीवन में शांति, समृद्धि, और संतुष्टि की भावना को प्राप्त कर सकते। आप इन सभी लेख से ईश्वर की दिव्य अनुभूति पा सकते हैं। तो बने रहिये हमारे साथ:

बैकलिंक : यदि आप ब्लॉगर हैं, अपनी वेबसाइट के लिए डू-फॉलों लिंक की तलाश में हैं, तो एक बार संपर्क जरूर करें। हमारा वाट्सएप नंबर हैं 9438098189.

विनम्र निवेदन : यदि कोई त्रुटि हो तो आप हमें यहाँ क्लिक करके E-mail (ई मेल) के माध्यम से भी सम्पर्क कर सकते हैं। धन्यवाद।

सोशल मीडिया : यदि आप भक्ति विषयों के बारे में प्रतिदिन कुछ ना कुछ जानना चाहते हैं, तो आपको Bhakti Bharat Ki संस्था के विभिन्न सोशल मीडिया खातों से जुड़ना चाहिए। इस ज्ञानवर्धक वेबसाइट को अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। उनके लिंक हैं:

Facebook
Instagram
YouTube

कुछ और महत्वपूर्ण लेख:

Hari Sharanam
नित्य स्तुति और प्रार्थना
Om Damodaraya Vidmahe
Rog Nashak Bishnu Mantra
Dayamaya Guru Karunamaya

Related posts

Sojugada Sooju Mallige Lyrics In English

bbkbbsr24

अपराजिता का फूल किस भगवान को चढ़ता है (Aprajita Ka Phool Kis Bhagwan Ko Chadta Hai)

bbkbbsr24

Ram Mandir Pran Pratishtha Song | श्री राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा अभियान गीत

bbkbbsr24