38.1 C
Bhubaneswar
April 20, 2024
Mantra

Navadha Bhakti | नवधा भक्ति

Navadha Bhakti | नवधा भक्ति : दोस्तों नमस्कार, आज हम आप लोगों को इस पोस्ट के माध्यम से Navadha Bhakti मंत्र के बारे में बताएँगे। यहाँ पर आपको बतादो जो संत में देखाई देता है बो है श्रवण-परीक्षित, कीर्तन-शुकदेव, स्मरण-प्रह्लाद, पादसेवन-लक्ष्मी, अर्चन-पृथुराजा, वंदन-अक्रूर, दास्य-हनुमान, सख्य-अर्जुन और आत्मनिवेदन-बलि राजा इन्हें नवधा भक्ति कहते हैं। तो आइए जानते हैं जो श्रीराम जी ने शबरी को नवधा भक्ति के बारे में ज्ञान दिया था:

श्रवणं कीर्तनं विष्णोः स्मरणं पादसेवनम्।
अर्चनं वन्दनं दास्यं सख्यमात्मनिवेदनम् ॥

श्रवण: भगवान के चरित्र, लीला, महिमा, गुण, नाम, कथा, महत्व, शक्ति तथा स्रोत इत्यादि को परम श्रद्धा सहित अतृप्त मन से निरंतर सुनना और उसी के अनुसार आचरण करने की चेष्टा करना, श्रवण भक्ति है।

कीर्तन: भगवान के लीला, कीर्ति, गुण, चरित्र, नाम, पराक्रम आदि का आनंद एवं उत्साह के साथ प्रेमपूर्वक करना कीर्तन भक्ति है।

स्मरण: निरंतर अनन्य भाव से परमेश्वर का स्मरण करना, उनके महात्म्य, उनके स्वरूप का चिन्तन करना और शक्ति का स्मरण कर उस पर मुग्ध होना स्मरण भक्ति है।

पाद सेवन: ईश्वर के चरणों का आश्रय लेना और उन्हीं को अपना सर्वस्व समझना।

अर्चन: मन, वचन और कर्म द्वारा पवित्र सामग्री से ईश्वर के चरणों का पूजन करना।

वंदन: भगवान की मूर्ति को अथवा भगवान के अंश रूप में व्याप्त भक्तजन, आचार्य, ब्राह्मण, गुरूजन, माता-पिता आदि को परम आदर सत्कार के साथ पवित्र भाव से नमस्कार करना या उनकी सेवा करना।

दास्य: ईश्वर को स्वामी और अपने को दास समझकर परम श्रद्धा के साथ सेवा करना।

सख्य: ईश्वर को ही अपना परम मित्र समझकर अपना सर्वस्व उसे समर्पण कर देना तथा सच्चे भाव से अपने पाप पुण्य का निवेदन करना।

आत्मनिवेदन: अपने आपको भगवान के चरणों में सदा के लिए समर्पण कर देना और कुछ भी अपनी स्वतंत्र सत्ता न रखना। यह भक्ति की सबसे उत्तम अवस्था मानी गई हैं।

भगवान् श्रीराम जब शबरीजी के आश्रम में आते हैं तो शबरीजी उनका स्वागत करती हैं, उनके चरणों को पखारती हैं, उन्हें आसन पर बैठाती हैं और उन्हें रसभरे कन्द-मूल-फल लाकर अर्पित करती हैं। प्रभु बार-बार उन फलों के स्वाद की सराहना करते हुए आनन्दपूर्वक उनका आस्वादन करते हैं। इसके पश्चात् भगवान राम शबरीजी के समक्ष नवधा भक्ति का स्वरूप प्रकट करते हुए उनसे कहते हैं कि:

नव महुं एकउ जिन्ह कें होई।
नारि पुरूष सचराचर कोई॥
सोइ अतिसय प्रिय भामिनी मोरें।
सकल प्रकार भगति दृढ़ तोरें॥

1. प्रथम भगति संतन्ह कर संगा।
2. दुसरि रति मम कथा प्रसंगा॥
3. गुरु पद पंकज सेवा तीसरि भगति अमान।
4. चौथि भगति मम गुन गन करइ कपट तजि गान॥
5. मंत्र जाप मम दृढ़ बिस्वासा। पंचम भजन सो बेद प्रकासा॥
6. छठ दम सील बिरति बहु करमा। निरत निरंतर सज्जन धरमा॥
7. सातवँ सम मोहि मय जग देखा। मोतें संत अधिक करि लेखा॥
8. आठवँ जथालाभ संतोषा। सपनेहुं नहिं देखइ परदोषा॥
9. नवम सरल सब सन छलहीना। मम भरोस हिय हरष न दीना॥

Navadha Bhakti

Navadha Bhakati Kahun Tohi Paahin.
Saavadhaan Sunu Dharu Man Maahin..

Pratham Bhagati Santanh Kar Sanga.
Dusari Rati Mam Katha Prasanga..

Gur Pad Pakanj Seva Tisari Bhagati Amaan.
Chauthi Bhagati Mam Gun Gan Kari Kapat Taji Gaan.

Mantr Jaap Mam Drdh Bisvaasa.
Pancham Bhajan So Bed Prakaasa..

Chhath Dam Sil Birati Bahu Karama.
Nirat Nirantar Sajjan Dharama..

Saatavan Sam Mohi May Jag Dekha.
Moten Sant Adhik Kari Lekha..

Aathavan Jathaalaabh Santosha.
Sapanehun Nahin Dekhi Paradosha..

Navam Saral Sab San Chhalahina.
Mam Bharos Hiyan Harash Na Dina.

नवधा भक्ति

नवधा भकति कहउँ तोहि पाहीं।
सावधान सुनु धरु मन माहीं।।

प्रथम भगति संतन्ह कर संगा।
दूसरि रति मम कथा प्रसंगा।।

गुर पद पकंज सेवा तीसरि भगति अमान।
चौथि भगति मम गुन गन करइ कपट तजि गान।

मन्त्र जाप मम दृढ़ बिस्वासा।
पंचम भजन सो बेद प्रकासा।।

छठ दम सील बिरति बहु करमा।
निरत निरंतर सज्जन धरमा।।
सातवँ सम मोहि मय जग देखा।
मोतें संत अधिक करि लेखा।।

आठवँ जथालाभ संतोषा।
सपनेहुँ नहिं देखइ परदोषा।।

नवम सरल सब सन छलहीना।
मम भरोस हियँ हरष न दीना।।

Disclaimer : Bhakti Bharat Ki / भक्ति भारत की (https://bhaktibharatki.com/) किसी की आस्था को ठेस पहुंचना नहीं चाहता। ऊपर पोस्ट में दिए गए उपाय, रचना और जानकारी को भिन्न – भिन्न लोगों की मान्यता और जानकारियों के अनुसार, और इंटरनेट पर मौजूदा जानकारियों को ध्यान पूर्वक पढ़कर, और शोधन कर लिखा गया है। यहां यह बताना जरूरी है कि (https://bhaktibharatki.com/) किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पूर्ण रूप से पुष्टि नहीं करता। नवधा भक्ति मंत्र के उच्चारण, किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ, ज्योतिष अथवा पंड़ित की सलाह अवश्य लें। नवधा भक्ति मंत्र का उच्चारण करना या ना करना आपके विवेक पर निर्भर करता है।

हमारे बारें में : आपको Bhakti Bharat Ki पर हार्दिक अभिनन्दन। दोस्तों नमस्कार, यहाँ पर आपको हर दिन भक्ति का वीडियो और लेख मिलेगी, जो आपके जीवन में अदुतीय बदलाव लाएगी। आप इस चैनल के माध्यम से ईश्वर के उपासना करना (जैसे कि पूजा, प्रार्थना, भजन), भगवान के प्रति भक्ति करना (जैसे कि ध्यान), गुरु के चरणों में शरण लेना (जैसे कि शरणागति), अच्छे काम करना, दूसरों की मदद करना, और अपने स्वभाव को सुधारकर, आत्मा को ऊंचाईयों तक पहुंचाना ए सब सिख सकते हैं। भक्ति भारत की एक आध्यात्मिक वेबसाइट, जिसको देखकर आप अपने मन को शुद्ध करके, अध्यात्मिक उन्नति के साथ, जीवन में शांति, समृद्धि, और संतुष्टि की भावना को प्राप्त कर सकते। आप इन सभी लेख से ईश्वर की दिव्य अनुभूति पा सकते हैं। तो बने रहिये हमारे साथ:

बैकलिंक : यदि आप ब्लॉगर हैं, अपनी वेबसाइट के लिए डू-फॉलों लिंक की तलाश में हैं, तो एक बार संपर्क जरूर करें। हमारा वाट्सएप नंबर हैं 9438098189.

विनम्र निवेदन : यदि कोई त्रुटि हो तो आप हमें यहाँ क्लिक करके E-mail (ई मेल) के माध्यम से भी सम्पर्क कर सकते हैं। धन्यवाद।

सोशल मीडिया : यदि आप भक्ति विषयों के बारे में प्रतिदिन कुछ ना कुछ जानना चाहते हैं, तो आपको Bhakti Bharat Ki संस्था के विभिन्न सोशल मीडिया खातों से जुड़ना चाहिए। इस ज्ञानवर्धक वेबसाइट को अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। उनके लिंक हैं:

Facebook
Instagram
YouTube

कुछ और महत्वपूर्ण लेख:

Hari Sharanam
नित्य स्तुति और प्रार्थना
Om Damodaraya Vidmahe
Rog Nashak Bishnu Mantra
Dayamaya Guru Karunamaya

Related posts

Blue Tara Mantra | Remove Obstacles

bbkbbsr24

Om Ram Ramaya Namah | ॐ राम रामाय नम:

bbkbbsr24

Gauranga Tumi More Daya Na Chadiha | गौरांग तुमी मोरे दया न चडिहा

bbkbbsr24