38.1 C
Bhubaneswar
April 20, 2024
Bhakti

Bhaj Le Prani Re Agyani Do Din Ki Jindagani | Nar Tan Mila Hai Tujhe

Credit the Video: Manas Pariwar by Pujya Prembhushanji Maharaj YouTube Channel

Bhaj Le Prani Re Agyani Do Din Ki Jindagani

Bhaj Le Prani, Re Agyani,
Do Din Ki Jindgani,
Vrutha Kyu Bhatak Raha Hai,
Vrutha Kyu Bhatak Raha Hai

Jhooti Kaya, Jhooti Maya,
Chakkar Me Kyu Aaya,
Jagat Me Bhatak Raha Hai

Nar Tan Mila Hai Tujhe,
Kho Kyu Raha Hai Is Khel Me,
Kanchan Si Kaya Teri,
Uljhi Hai Vishyo Ke Bel Me,
Sut Aur Dara Vaibhav Sara,
Kuchh Bhi Nahi Tumhara,
Vrutha Kyu Bhatak Raha Hai,
Bhaj Le Prani Re Agyani,
Do Din Ki Jindgaani,
Vrutha Kyu Bhatak Raha Hai,
Vrutha Kyu Bhatak Raha Hai

Bhula Fir Kyu Bande,
Dhan Youban Ke Umang Me,
Mata Pita Aur Bandhu,
Koi Chale Na Tere Sang Me,
Me Aur Mera, Tu Aur Tera,
He Maya Ka Fera,
Isi Me Bhatak Raha Hai,
Bhaj Le Prani Re Agyani,
Do Din Ki Jindgaani,
Vrutha Kyu Bhatak Raha Hai,
Vrutha Kyu Bhatak Raha Hai

Yoniyan Anek Bhramee,
Prabhu Kee Krpa Se,
Nar Tan Paya Hai,
Jhothe Vyasan Mein Phans Kar,
Inase Na Prem Badhaaya Hai,
Geeta Gae, Ved Batae,
Guru Bin Gyaan Na Aae,
Vrutha Kyu Bhatak Raha Hai,
Bhaj Le Prani Re Agyani,
Do Din Ki Jindgaani,
Vrutha Kyu Bhatak Raha Hai,
Vrutha Kyu Bhatak Raha Hai

Chanchal Gumani Mann,
Ab To Janam Ko Sambhal Le,
Phir Na Milega Tujhe Awasar Aisa Barambar Re,
Re Agyani Taj Naadani Bhaj Le Sarang Praani,
Vrutha Kyu Bhatak Raha Hai,
Bhaj Le Prani Re Agyani,
Do Din Ki Jindgaani,
Vrutha Kyu Bhatak Raha Hai,
Vrutha Kyu Bhatak Raha Hai

Jhooti Kaya Jhooti Maya,
chakkar Me Kyu Aaya,
Jagat Me Bhatak Raha Hai

भज ले प्राणी, रे अज्ञानी, दो दिन की जिंदगानी लिरिक्स

भज ले प्राणी, रे अज्ञानी,
दो दिन की जिंदगानी,
वृथा क्यों भटक रहा है, वृथा क्यों भटक रहा है,

झूठी काया झूठी माया चक्कर में क्यों आया,
जगत में भटक रहा है

नर तन मिला है तुझे, खो क्यों रहा है इसे खेल में,
कंचन सी काया तेरी, उलझी है विषयों के बेल में,
सूत और दारा वैभव सारा, कुछ भी नहीं तुम्हारा,
वृथा क्यों भटक रहा है,
भज ले प्राणी, अरे अज्ञानी,
दो दिन की जिंदगानी,
वृथा क्यों भटक रहा है,
वृथा क्यों भटक रहा है

भुला फिरे क्यों बन्दे, धन यौवन के उमंग में,
माता पिता और बंधू, कोई चले ना तेरे संग में,
मैं और मेरा, तू और तेरा, है माया का फेरा,
इसी में भटक रहा है,
भज ले प्राणी, अरे अज्ञानी,
दो दिन की जिंदगानी,
वृथा क्यों भटक रहा है,
वृथा क्यों भटक रहा है

योनियाँ अनेक भ्रमी, प्रभु की कृपा से,नर तन पाया है,
झूठे व्यसन में फंस कर, इनसे ना प्रेम बढ़ाया है,
गीता गाए, वेद बताए, गुरु बिन ज्ञान ना आए,
वृथा क्यों भटक रहा है
भज ले प्राणी, अरे अज्ञानी,
दो दिन की जिंदगानी,
वृथा क्यों भटक रहा है,
वृथा क्यों भटक रहा है

चंचल गुमानी मन अब तो जनम को सँवार ले,
फिर न मिलेगा तुझे अवसर ऐसा बारंबार रे,
रे अज्ञानी तज नादानी भज ले सारंग पाणी,
वृथा क्यों भटक रहा है
भज ले प्राणी, अरे अज्ञानी,
दो दिन की जिंदगानी,
वृथा क्यों भटक रहा है,
वृथा क्यों भटक रहा है

झूठी काया झूठी माया चक्कर में क्यों आया,
जगत में भटक रहा है

Credit the Video: Pujya Rajan Ji Official YouTube Channel

 

 

Related posts

Shendur Lal Chadhayo Lyrics in English – Bhakti Bharat Ki

bbkbbsr24

Daya Kar Daan Vidya Ka Hume Parmatma Dena Lyrics in English – Bhakti Bharat Ki

bbkbbsr24

Shendur Lal Chadhayo Lyrics in English – Bhakti Bharat Ki

bbkbbsr24