38.1 C
Bhubaneswar
April 20, 2024
Aarti

Shani Dev Aarti | शनिदेव की आरती

Credit the Video: Rajshri Soul by Vishwajeet Borwankar & Priyanka Sarvadnya YouTube Channel

श्री शनिदेव जी की आरतीशनिवार का दिन शनिदेव को समर्पित है। हिंदू धर्म के अनुसार शनिदेव न्याय के देवता हैं । वह अच्छे कर्मों के अनुसार अच्छा फल और बुरे कर्मों के अनुसार बुरा फल देता है। शनिदेव को प्रसन्न करना चाहते हैं तो गरीबों को दान दें। ऐसा करने से शनि प्रसन्न होते हैं। इसके अलावा शनिदेव की आरती अगर आप प्रतिदिन भक्ति भाव से करें तो शनिदेव आपसे प्रसन्न होते हैं। शनिदेव को प्रसन्न करने का यह सबसे अच्छा उपाय है।

शनिदेव की आरती

जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी ।
सूरज के पुत्र प्रभु छाया महतारी ॥
॥ जय जय श्री शनिदेव..॥

श्याम अंक वक्र दृष्ट चतुर्भुजा धारी ।
नीलाम्बर धार नाथ गज की असवारी ॥
॥ जय जय श्री शनिदेव..॥

क्रीट मुकुट शीश रजित दिपत है लिलारी ।
मुक्तन की माला गले शोभित बलिहारी ॥
॥ जय जय श्री शनिदेव..॥

मोदक मिष्ठान पान चढ़त हैं सुपारी ।
लोहा तिल तेल उड़द महिषी अति प्यारी ॥
॥ जय जय श्री शनिदेव..॥

देव दनुज ऋषि मुनि सुमरिन नर नारी ।
विश्वनाथ धरत ध्यान शरण हैं तुम्हारी ॥
॥ जय जय श्री शनिदेव..॥

इसे भी पढ़े : मौन का रहस्य

Shani Dev Aarti

Jai Jai Shri Shanidev Bhaktan Hitkari ।
Suraj Ke Putra Prabhu Chhaya Mahtari ॥
॥ Jai Jai Shri Shanidev Bhaktan Hitkari ॥

Shyam Ang Vakra-Drishti Chaturbhuja Dhaari।
Nilambar Dhaar Nath Gaj Ki Asawari॥
॥ Jai Jai Shri Shanidev Bhaktan Hitkari॥

Kreet Mukut Sheesh Rajit Dipat Hai Lilari।
Muktan Ki Maala Gale Shobhit Balihari॥
॥ Jai Jai Shri Shanidev Bhaktan Hitkari॥

Modak Mishthan Paan Chadat Hai Supari।
Loha, Til, Tel, Udad Mahishi Ati Pyari॥
॥ Jai Jai Shri Shanidev Bhaktan Hitkari॥

Dev Danuj Rishi Muni Sumirat Nar Naari।
Vishwanath Dharat Dhyaan Sharan Hian Tumhari॥
॥ Jai Jai Shri Shanidev Bhaktan Hitkari॥

यह भी देखें: Om Krishnaya Vasudevaya Haraye

ଶ୍ରୀ ଶନିଦେବ ଜୀ କୀ ଆରତୀଶନିବାର ଭଗବାନ ଶନିଙ୍କୁ ସମର୍ପିତ । ହିନ୍ଦୁ ଧର୍ମ ଅନୁଯାୟୀ ଶନିଦେବ ହେଉଛନ୍ତି ନ୍ୟାୟର ଦେବତା । । ସେ ବ୍ଯକ୍ତିର ଭଲ କର୍ମ ଅନୁଯାୟୀ ଭଲ ଫଳ ଓ ଖରାପ କର୍ମ ଅନୁଯାୟୀ ଖରାପ ଫଳ ପ୍ରଦାନ କରିଥାନ୍ତି । ଯଦି ଆପଣ ଶନିଙ୍କୁ ପ୍ରସନ୍ନ କରିବାକୁ ଚାଉଁଛନ୍ତି ତେବେ ଗରିବ ଲୋକଙ୍କୁ ଦାନ କରନ୍ତୁ । ଏହା କରିବାଦ୍ୱାରା ଶନି ପ୍ରସନ୍ନ ହୋଇଥାନ୍ତି । ଏହା ଛଡା ଶନି ଦେବଙ୍କ ଆରତୀ ପ୍ରତିଦିନ ଭକ୍ତି ଭାବରେ ପ୍ରାଥନା କଲେ ଆପଣଙ୍କ ଉପରେ ଶନି ପ୍ରସନ୍ନ ହୋଇଥାନ୍ତି । ଏହା ହେଉଛି ଶନିଦେବଙ୍କୁ ପ୍ରସନ୍ନ କରିବାର ସବୁଠାରୁ ଭଲ ଉପାୟ ।

ଶ୍ରୀ ଶନିଦେବ ଜୀ କୀ ଆରତୀ

ଜୟ ଜୟ ଶ୍ରୀ ଶନିଦେବ ଭକ୍ତନ ହିତକାରୀ ।
ସୂରଜ କେ ପୁତ୍ର ପ୍ରଭୂ ଛାୟା ମହତାରୀ ॥
॥ ଜୟ ଜୟ ଶ୍ରୀ ଶନିଦେବ…॥

ଶ୍ୟାମ ଅଙ୍କ ବକ୍ର ଦୃଷ୍ଟ ଚତୁର୍ଭୁଜା ଧାରୀ ।
ନୀଲାମ୍ବର ଧାର ନାଥ ଗଜ କୀ ଅସବାରୀ ॥
॥ ଜୟ ଜୟ ଶ୍ରୀ ଶନିଦେବ…॥

କିରିଟ ମୁକୁଟ ଶୀଶ ରଜିତ ଦିପତ ହୈ ଲିଲାରୀ ।
ମୁକ୍ତନ କୀ ମାଲା ଗଲେ ଶୋଭିତ ବଲିହାରୀ ॥
॥ ଜୟ ଜୟ ଶ୍ରୀ ଶନିଦେବ…॥

ମୋଦକ ମିଷ୍ଠାନ ପାନ ଚଢ଼ତ ହୈଂ ସୁପାରୀ ।
ଲୋହା ତିଲ ତେଲ ଉଡ଼ଦ ମହିଷୀ ଅତି ପ୍ୟାରୀ ॥
॥ ଜୟ ଜୟ ଶ୍ରୀ ଶନିଦେବ…॥

ଦେବ ଦନୁଜ ଋଷୀ ମୁନୀ ସୁମରିନ ନର ନାରୀ ।
ବିଶ୍ୱନାଥ ଧରତ ଧ୍ୟାନ ଶରଣ ହୈଂ ତୁମ୍ହାରୀ ॥
॥ ଜୟ ଜୟ ଶ୍ରୀ ଶନିଦେବ…॥

इसे भी पढ़े : समस्त कष्टों से मुक्ति के लिए ॐ कृष्णाय वासुदेवाय मंत्र

Disclaimer : Bhakti Bharat Ki / भक्ति भारत की (https://bhaktibharatki.com/) किसी की आस्था को ठेस पहुंचना नहीं चाहता। ऊपर पोस्ट में दिए गए उपाय, रचना और जानकारी को भिन्न – भिन्न लोगों की मान्यता और जानकारियों के अनुसार, और इंटरनेट पर मौजूदा जानकारियों को ध्यान पूर्वक पढ़कर, और शोधन कर लिखा गया है। यहां यह बताना जरूरी है कि (https://bhaktibharatki.com/) किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पूर्ण रूप से पुष्टि नहीं करता। शनिदेव की आरती के उच्चारण, किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ, ज्योतिष अथवा पंड़ित की सलाह अवश्य लें। शनिदेव की आरती का उच्चारण करना या ना करना आपके विवेक पर निर्भर करता है।

इसे भी पढ़े : ओम का अर्थ, उत्पत्ति, महत्व, उच्चारण, जप करने का तरीका और चमत्कार

हमारे बारें में : आपको Bhakti Bharat Ki पर हार्दिक अभिनन्दन। दोस्तों नमस्कार, यहाँ पर आपको हर दिन भक्ति का वीडियो और लेख मिलेगी, जो आपके जीवन में अदुतीय बदलाव लाएगी। आप इस चैनल के माध्यम से ईश्वर के उपासना करना (जैसे कि पूजा, प्रार्थना, भजन), भगवान के प्रति भक्ति करना (जैसे कि ध्यान), गुरु के चरणों में शरण लेना (जैसे कि शरणागति), अच्छे काम करना, दूसरों की मदद करना, और अपने स्वभाव को सुधारकर, आत्मा को ऊंचाईयों तक पहुंचाना ए सब सिख सकते हैं। भक्ति भारत की एक आध्यात्मिक वेबसाइट, जिसको देखकर आप अपने मन को शुद्ध करके, अध्यात्मिक उन्नति के साथ, जीवन में शांति, समृद्धि, और संतुष्टि की भावना को प्राप्त कर सकते। आप इन सभी लेख से ईश्वर की दिव्य अनुभूति पा सकते हैं। तो बने रहिये हमारे साथ:

इसे भी पढ़े : सांस लेने और छोड़ने की क्रिया से मन स्थिर हो जाता है

बैकलिंक : यदि आप ब्लॉगर हैं, अपनी वेबसाइट के लिए डू-फॉलों लिंक की तलाश में हैं, तो एक बार संपर्क जरूर करें। हमारा वाट्सएप नंबर हैं 9438098189.

इसे भी पढ़े : भजगोविन्दं भजगोविन्दं गोविन्दं भज मूढमते

विनम्र निवेदन : यदि कोई त्रुटि हो तो आप हमें यहाँ क्लिक करके E-mail (ई मेल) के माध्यम से भी सम्पर्क कर सकते हैं। धन्यवाद।

इसे भी पढ़े : अमृत ​​है हरि नाम जगत में

सोशल मीडिया : यदि आप भक्ति विषयों के बारे में प्रतिदिन कुछ ना कुछ जानना चाहते हैं, तो आपको Bhakti Bharat Ki संस्था के विभिन्न सोशल मीडिया खातों से जुड़ना चाहिए। इस ज्ञानवर्धक वेबसाइट को अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। उनके लिंक हैं:

Facebook
Instagram
YouTube

कुछ और महत्वपूर्ण लेख:

Hari Sharanam
नित्य स्तुति और प्रार्थना
Om Damodaraya Vidmahe
Rog Nashak Bishnu Mantra
Ram Gayatri Mantra
Dayamaya Guru Karunamaya

#शनिदेवकीआरती
#ଶନିଦେବକୀଆରତୀ
#ଶନିଦେବଜୀକୀଆରତୀ
#ଶନିଦେବ
#Shanidev
#sanidev
#sanidevkiarati

Related posts

Mahakali Ki Aarti Lyrics in English – Bhakti Bharat Ki

bbkbbsr24

Dhanvantari Aarti | धन्वंतरि जी की आरती | धनतेरस आरती | भगवान धन्वंतरि की आरती

bbkbbsr24

Ambe Tu Hai Jagdambe Kali | अम्बे तू है जगदम्बे काली

bbkbbsr24