41.3 C
Bhubaneswar
April 19, 2024
Phool

Kaner Ke Phool : कनेर का फूल किस भगवान को चढ़ाया जाता हैं, जानिए कनेर फूल का फायदे और नुकसान

Kaner Ke Phool : कनेर का फूल किस भगवान को चढ़ाया जाता हैं, जानिए कनेर फूल का फायदे और नुकसान: दोस्तों नमस्कार, आज हम आपको कनेर के पौधे, उसके फूल और यह फूल किस भगवान को चढ़ाया जाता हैं इसके बारे में बात करेंगे। संस्कृत में कनेर को करवीर पुष्प और इंग्लिश में Oleander के नाम से जानते हैं। वैसे तो हमारी प्रकृति के गोद में सभी प्रकार के पेड़ पौधे फल फूल जीव जंतु पाए जाते हैं। हिंदू धर्म में बहुत शुभ माना जाने वाले, औषधीय गुणों से युक्त, भगवान के पूजन में प्रयुक्त, और स्वास्थ्य क्षेत्र में लाभ कारी होने वाले फूल ‘कनेर के फूल’ हैं। आइए जानते हैं इसके मान्यताएं के बारे में:

कनेर का फूल किस भगवान को जाता हैं:

Kaner Ka Phool Kis Bhagwan Ko Chadhaya Jata Hai: देखा जाए तो कनेर फूल का तीन तरह रंगों की प्रजातियां होती है। एक सफेद कनेर (White Kaner), दूसरी लाल कनेर (Red Kaner), और तीसरा पीले कनेर (Yellow Kaner) नाम से जाने जाते हैं। वास्तव में तो कनेर का फूल लगभग सभी देवी देवताओं को चढ़ाया जाता हैं। लेकिन फिर भी सफेद रंग का फूल माता लक्ष्मी जी को अत्यंत प्रिय हैं। अगर आप लक्ष्मीजी की कृपा को प्राप्त करना चाहते हैं, मां लक्ष्मी को प्रसन्न करना चाहते हैं, तो आपको सफेद कनेर के फूल लक्ष्मी जी को अर्पित करनी चाहिए। दूसरी ओर पीले रंग के कनेर का फूल भगवान विष्णु श्रीहरि को चढ़ाया जाता हैं। जिसके उपरांत वो बहुत जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं, पारिवारिक खुशहाली आती है, और सारी मनोकामनाएं पूरी करते हैं। तीसरा लाल रंग के कनेर का फूल गणेशजी को चढ़ाया जाता हैं। वहीं सोमवार की पूजा में जहां पर शिवजी के प्रिय फूलों कनेर होता हैसावन अधिक मास में भोलेनाथ पर अर्पित करना बेहद लाभकारी माना जाता है। सावन के पावन महीने में इसे चढ़ाने से आपके जीवन में सकारात्मक प्रभाव मिलते है। शिव जी को प्रिय पांच विशेष पुष्पों (कनेर, धतूरा, आक, पारिजात और शमी के फूल) में से एक कनेर का फूल होता है।

इसे भी पढ़े : ओम का अर्थ, उत्पत्ति, महत्व, उच्चारण, जप करने का तरीका और चमत्कार

इसे भी पढ़े : अमृत ​​है हरि नाम जगत में

कनेर के पुष्प कहाँ पाए जाते हैं: (Kaner Ke Phool Ke Bare Me Jankari) कनेर के फूल और इसके पौधा भारत के लगभग हर जगह पाई जाती है। ज्यादातर मंदिरों में यह पौधा देखने को मिलता है। खास कर के उत्तर भारत एवं मध्यप्रदेश में इनकी भरपूर संख्या पाई जाती हैं। भारत के अलावा इसके पड़ोसी देशों (कनेर के फूल के बारे में जानकारी)र विश्व के आमतौर पर सभी देशों में पाया जाता हैं। कनेर एक झाड़ी के रूप में पाये जाने वाले सदाहरित पौधे होते हैं। इनके फूल तो वर्ष भर निरन्तर खिलते रहते हैं। परंतु सबसे ज्यादा फूल फरवरी से मार्च महीने में, गर्मियों के मौसम में अपने वास्तविक आकार में खिलते हैं।

कनेर फूल का फायदे:

वास्तुशास्त्र के अनुसार कनेर के फूल का फायदे: वास्तु शास्त्र के अनुसार कनेर के पेड़ से जिस प्रकार से वर्ष भर फूल खिलते रहते हैं उसी प्रकार कनेर के पेड़ जिस घर में होते हैं वहाँ वर्ष भर धन की निरंतरता बनी रहती हैं। कनेर का पौधा मन को शांत रखता है, और वातावरण में सकारात्मकता ऊर्जा उत्पन्न करता है। अगर आप कनेर के पौधे को किसी खास मुहूर्त में, घर के आस पास उचित दिशा में लगाने से, पूरे साल घर में धन, सुख, समृद्धि बनी रहती हैं। कनेर के पेड़ के उपस्थिति के कारण नकारात्मक ऊर्जा चली जाती हैं और सकारात्मक ऊर्जा का समावेश होता हैं। जिस घर के आंगन या गार्डन में कनेर के पीले पेड़ होते हैं वहाँ साक्षात माता लक्ष्मी का वास होता हैं।

कनेर के फूल का औषधीय गुण: कनेर का पेड़, पत्तियां, फूल और छाल के कई औषधीय गुण संजीविनी बूटी की तरह कार्य करते हैं। जिसमें सफेद पुष्प आयुर्वेद की दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण होता हैं। घाव को ठीक करने में कनेर के पत्ते का चूर्ण सहायक होता हैं। त्वचा रोग में दाद खाज खुजली में कनेली के जड़ बहुत मददगार होता हैं। बालों का झड़ना, चेहरे पर दाग धब्बो और पिम्पल दूर करने में सहायक होते हैं। हृदय से संबंधित बीमारी, बवासीर, दस्त की समस्या, नपुंसकता और जोड़ो के दर्द को भी यह कनेली का पेड़ ठीक कर सकता हैं। गांव में रहने वाले लोग अपने घरेलू समस्याएं को ठीक करने के लिए कनेर फल का उपयोग करते हैं। कनेर फल के बीज को निकालकर सिलबट्टा में पीसकर औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। छोटे बच्चों के कान के बगल में होने वाले घाव का निवारण किया जाता है। कनेर फूल से आप अपने बालों का झड़ना रोक सकते हैं। सबसे पहले आप इस फूल को पानी में उबाल लें। उसके बाद उस पानी को छानकर ठंडा कर ले। फिर उस पानी से बालों को धोएं। इस उपाय को सप्ताह में 3 दिन करने से आपके बालों का झड़ना धीरे-धीरे बंद हो जाएगा। कम शब्दों में बोले तो कनेर का वृक्ष और उसका फूल आयुर्वेद चिकित्सा के लिए वरदान हैं।

इसे भी पढ़े : समस्त कष्टों से मुक्ति के लिए ॐ कृष्णाय वासुदेवाय मंत्र

कनेर फूल का नुकसान:

कनेर के पेड़ और पुष्प को लेकर आवश्यक सावधानियां: जिस प्रकार हर सुखमय वस्तु दुख को उत्पन्न करने का कारण होता हैं। ठीक उसी प्रकार तमाम रोगों को ठीक करने वाला, देवी देवताओं को प्रसन्न करने वाला, कनेर का पुष्प या उसका पेड़ खतरों से भरा हैं। आयुर्वेद में विशेष होने के साथ साथ विषैले भी होते हैं। लेकिन यह भी सही है कि कनेर के जड़, तना, फूल और पत्तियां का उपयोग आयुर्वेद के दवा बनाने में बहुत बड़ी भूमिका निभाता हैं। जिसका प्रयोग आयुर्वेद में चिकित्सा के लिए करते हैं। कनेर के पेड़, फूल औऱ बीज के सभी हिस्सों में, जहर भरा हुआ रहता हैं। इसीलिए इनका प्रयोग सावधानीपूर्वक करना चाहिए। इसीलिए कनेर के पेड़ को घर में कभी नही लगानी चाहिए। कनेर के पेड़ को बच्चों के पहुँच से दूर रखना चाहिए। इसलिए इसे घर के अंदर लगाने की बजाय, इसको उपयुक्त स्थान घर के बाहर या फिर गार्डन में होता हैं।

ध्यान रखें: किसी भी बीमारी का पूर्ण उपचार के लिए कनेर के फूल, जड़ो औऱ फल या बीज के प्रयोग से पहले डॉक्टरी सलाह जरूर लें।

यह भी देखें: Om Krishnaya Vasudevaya Haraye

Disclaimer : Bhakti Bharat Ki / भक्ति भारत की (https://bhaktibharatki.com/) किसी की आस्था को ठेस पहुंचना नहीं चाहता। ऊपर पोस्ट में दिए गए उपाय, रचना और जानकारी को भिन्न – भिन्न लोगों की मान्यता और जानकारियों के अनुसार, और इंटरनेट पर मौजूदा जानकारियों को ध्यान पूर्वक पढ़कर, और शोधन कर लिखा गया है। यहां यह बताना जरूरी है कि Bhakti Bharat Ki / भक्ति भारत की (https://bhaktibharatki.com/) किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पूर्ण रूप से पुष्टि नहीं करता। किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ, ज्योतिष अथवा पंड़ित की सलाह अवश्य लें। कनेर के पुष्प चढ़ाना या ना चढ़ाना आपके विवेक पर निर्भर करता है।

यह भी देखें: Breathing | सांस लेने और छोड़ने की क्रिया से मन स्थिर हो जाता है

हमारे बारें में : आपको Bhakti Bharat Ki पर हार्दिक अभिनन्दन। दोस्तों नमस्कार, यहाँ पर आपको हर दिन भक्ति का वीडियो और लेख मिलेगी, जो आपके जीवन में अदुतीय बदलाव लाएगी। आप इस चैनल के माध्यम से ईश्वर के उपासना करना (जैसे कि पूजा, प्रार्थना, भजन), भगवान के प्रति भक्ति करना (जैसे कि ध्यान), गुरु के चरणों में शरण लेना (जैसे कि शरणागति), अच्छे काम करना, दूसरों की मदद करना, और अपने स्वभाव को सुधारकर, आत्मा को ऊंचाईयों तक पहुंचाना ए सब सिख सकते हैं। भक्ति भारत की एक आध्यात्मिक वेबसाइट, जिसको देखकर आप अपने मन को शुद्ध करके, अध्यात्मिक उन्नति के साथ, जीवन में शांति, समृद्धि, और संतुष्टि की भावना को प्राप्त कर सकते। आप इन सभी लेख से ईश्वर की दिव्य अनुभूति पा सकते हैं। तो बने रहिये हमारे साथ:

इसे भी पढ़े : ओम का अर्थ, उत्पत्ति, महत्व, उच्चारण, जप करने का तरीका और चमत्कार

बैकलिंक : यदि आप ब्लॉगर हैं, अपनी वेबसाइट के लिए डू-फॉलों लिंक की तलाश में हैं, तो एक बार संपर्क जरूर करें। हमारा वाट्सएप नंबर हैं 9438098189.

इसे भी पढ़े : भजगोविन्दं भजगोविन्दं गोविन्दं भज मूढमते

विनम्र निवेदन : यदि कोई त्रुटि हो तो आप हमें यहाँ क्लिक करके E-mail (ई मेल) के माध्यम से भी सम्पर्क कर सकते हैं। धन्यवाद।

सोशल मीडिया : यदि आप भक्ति विषयों के बारे में प्रतिदिन कुछ ना कुछ जानना चाहते हैं, तो आपको Bhakti Bharat Ki संस्था के विभिन्न सोशल मीडिया खातों से जुड़ना चाहिए। इस ज्ञानवर्धक वेबसाइट को अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। उनके लिंक हैं:

Facebook
Instagram
YouTube

कुछ और महत्वपूर्ण लेख:

Hari Sharanam
नित्य स्तुति और प्रार्थना
Om Damodaraya Vidmahe
Rog Nashak Bishnu Mantra
Dayamaya Guru Karunamaya

Related posts

कुंद का पुष्प किस भगवान को चढ़ाया जाता हैं

bbkbbsr24

फूल चढ़ाने के नियम – Phool Chadhane Ke Niyam

bbkbbsr24

केतकी का फूल किस भगवान को चढ़ाया जाता हैं | Not use Ketaki flower to worship Lord Shiva

bbkbbsr24