41.3 C
Bhubaneswar
April 19, 2024
Stotram

Rin Mochan Mangal Stotra | कर्ज मुक्ति के लिए पढ़े मंगलकारी ऋण मोचन मंगल स्तोत्र

Credit the Video : Shemaroo Bhakti YouTube Channel

Rin Mochan Mangal Stotra | कर्ज मुक्ति के लिए पढ़े मंगलकारी ऋण मोचन मंगल स्तोत्र: दोस्तों नमस्कार, आज हम आप लोगों को इस पोस्ट के माध्यम से ऋण मोचन मंगल स्तोत्र के बारे में बात करेंगे।

ऋण मोचन मंगल स्तोत्र के पाठ से हनुमानजी आपको संसार के सभी तरह के ऋण से मुक्ति दिला देते हैं। इसलिए कर्ज को चुकाने के लिए आपको हर दिन हनुमानजी का ध्यान करते हुए ऋण मोचन मंगल स्तोत्र का पाठ करना चाहिए। हनुमानजी आपको कर्ज से मुक्ति पाने की कृपा प्रदान करेंगे।

Rin Mochan Mangal Stotra

Runa Vimochana Mantra

Mangalo Bhumiputrashcha Rinaharta Dhanapradah।
Sthirasano Mahakayah Sarvakamavirodhakah॥1॥

Lohito Lohitakshashcha Samaganam Kripakarah।
Dharatmajah Kujo Bhaumo Bhutido Bhuminandanah॥2॥

Angarako YamashchaivaSarvarogapaharakah।
Vrishteh Kartapaharta Cha Sarvakama-phalapradah॥3॥

Etani KujanamaniNityam Yah Shraddhaya Pathet।
Rinam Na Jayate Tasya Dhanam Shighramavapnuyat॥4॥

Dharani-garbhasambhutam Vidyutkanti-samaprabham।
Kumaram Shaktihastam Cha Mangalam Pranamamyaham॥5॥

Stotramangarakasyaitat Pathaniyam Sada Nribhih।
Na Tesham Bhaumaja Pida Svalpapi Bhavati Kvachit॥6॥

Angaraka Mahabhaga Bhagavan Bhaktavatsala।
Tvam Namami Mamashesha Mrinamashu Vinashayah॥7॥

Rinarogadi-daridrayam Ye Chanye Chapamrityavah।
Bhayakleshamanastapa Nashyantu Mama Sarvada॥8॥

AtivakraduraraBhogamuktajitatmanah।
Tushto Dadasi Samrajyam Rushto Harasi Tatkshanat॥9॥

Viranchi Shakravishnunam Manushyanam Tu Ka Katha।
Tena Tvam Sarvasatvena Graharajo Mahabalah॥10॥

Putrandehi Dhanam Dehi Tvamasmi Sharanam Gatah।
Rinadaridrayadukhena Shatrunam Cha Bhayattatah॥11॥

Ebhirdvadashabhih Shlokairyah Stauti Cha Dharasutam।
Mahatim Shriyamapnoti Hyaparo Dhanado Yuva॥12॥

॥ Iti Shriskandapurane Bhargavaproktam
Rinamochana Mangala Stotram Sampurnam ॥

॥ ऋणमोचन मंगल स्तोत्र ॥

मङ्गलो भूमिपुत्रश्च ऋणहर्ता धनप्रदः।
स्थिरासनो महाकयः सर्वकर्मविरोधकः ॥1॥

लोहितो लोहिताक्षश्च सामगानां कृपाकरः।
धरात्मजः कुजो भौमो भूतिदो भूमिनन्दनः ॥2॥

अङ्गारको यमश्चैव सर्वरोगापहारकः।
व्रुष्टेः कर्ताऽपहर्ता च सर्वकामफलप्रदः ॥3॥

एतानि कुजनामनि नित्यं यः श्रद्धया पठेत्।
ऋणं न जायते तस्य धनं शीघ्रमवाप्नुयात् ॥4॥

धरणीगर्भसम्भूतं विद्युत्कान्तिसमप्रभम्।
कुमारं शक्तिहस्तं च मङ्गलं प्रणमाम्यहम् ॥5॥

स्तोत्रमङ्गारकस्यैतत्पठनीयं सदा नृभिः।
न तेषां भौमजा पीडा स्वल्पाऽपि भवति क्वचित् ॥6॥

अङ्गारक महाभाग भगवन्भक्तवत्सल।
त्वां नमामि ममाशेषमृणमाशु विनाशय ॥7॥

ऋणरोगादिदारिद्रयं ये चान्ये ह्यपमृत्यवः।
भयक्लेशमनस्तापा नश्यन्तु मम सर्वदा ॥8॥

अतिवक्त्र दुरारार्ध्य भोगमुक्त जितात्मनः।
तुष्टो ददासि साम्राज्यं रुश्टो हरसि तत्ख्शणात् ॥9॥

विरिंचिशक्रविष्णूनां मनुष्याणां तु का कथा॥
तेन त्वं सर्वसत्त्वेन ग्रहराजो महाबलः ॥10॥

पुत्रान्देहि धनं देहि त्वामस्मि शरणं गतः।
ऋणदारिद्रयदुःखेन शत्रूणां च भयात्ततः ॥11॥

एभिर्द्वादशभिः श्लोकैर्यः स्तौति च धरासुतम्।
महतिं श्रियमाप्नोति ह्यपरो धनदो युवा ॥12॥

॥ इति श्री ऋणमोचक मङ्गलस्तोत्रम् सम्पूर्णम्॥

इसे भी पढ़े : समस्त कष्टों से मुक्ति के लिए ॐ कृष्णाय वासुदेवाय मंत्र

Disclaimer : Bhakti Bharat Ki / भक्ति भारत की (https://bhaktibharatki.com/) किसी की आस्था को ठेस पहुंचना नहीं चाहता। ऊपर पोस्ट में दिए गए उपाय, रचना और जानकारी को भिन्न – भिन्न लोगों की मान्यता और जानकारियों के अनुसार, और इंटरनेट पर मौजूदा जानकारियों को ध्यान पूर्वक पढ़कर, और शोधन कर लिखा गया है। यहां यह बताना जरूरी है कि Bhakti Bharat Ki / भक्ति भारत की (https://bhaktibharatki.com/) किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पूर्ण रूप से पुष्टि नहीं करता। ऋण मोचन मंगल स्तोत्र के उच्चारण, किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ, ज्योतिष अथवा पंड़ित की सलाह अवश्य लें। ऋण मोचन मंगल स्तोत्र का जाप करना या ना करना आपके विवेक पर निर्भर करता है।

इसे भी पढ़े : ओम का अर्थ, उत्पत्ति, महत्व, उच्चारण, जप करने का तरीका और चमत्कार

हमारे बारें में : आपको Bhakti Bharat Ki पर हार्दिक अभिनन्दन। दोस्तों नमस्कार, यहाँ पर आपको हर दिन भक्ति का वीडियो और लेख मिलेगी, जो आपके जीवन में अदुतीय बदलाव लाएगी। आप इस चैनल के माध्यम से ईश्वर के उपासना करना (जैसे कि पूजा, प्रार्थना, भजन), भगवान के प्रति भक्ति करना (जैसे कि ध्यान), गुरु के चरणों में शरण लेना (जैसे कि शरणागति), अच्छे काम करना, दूसरों की मदद करना, और अपने स्वभाव को सुधारकर, आत्मा को ऊंचाईयों तक पहुंचाना ए सब सिख सकते हैं। भक्ति भारत की एक आध्यात्मिक वेबसाइट, जिसको देखकर आप अपने मन को शुद्ध करके, अध्यात्मिक उन्नति के साथ, जीवन में शांति, समृद्धि, और संतुष्टि की भावना को प्राप्त कर सकते। आप इन सभी लेख से ईश्वर की दिव्य अनुभूति पा सकते हैं। तो बने रहिये हमारे साथ:

बैकलिंक : यदि आप ब्लॉगर हैं, अपनी वेबसाइट के लिए डू-फॉलों लिंक की तलाश में हैं, तो एक बार संपर्क जरूर करें। हमारा वाट्सएप नंबर हैं 9438098189.

विनम्र निवेदन : यदि कोई त्रुटि हो तो आप हमें यहाँ क्लिक करके E-mail (ई मेल) के माध्यम से भी सम्पर्क कर सकते हैं। धन्यवाद।

सोशल मीडिया : यदि आप भक्ति विषयों के बारे में प्रतिदिन कुछ ना कुछ जानना चाहते हैं, तो आपको Bhakti Bharat Ki संस्था के विभिन्न सोशल मीडिया खातों से जुड़ना चाहिए। इस ज्ञानवर्धक वेबसाइट को अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। उनके लिंक हैं:

Facebook
Instagram
YouTube

कुछ और महत्वपूर्ण लेख:

Om Damodaraya Vidmahe
Om Sarve Bhavantu Sukhinah
Rog Nashak Bishnu Mantra
Dayamaya Guru Karunamaya
Black Tara Mantra
White Tara Mantra
Yellow Tara Mantra
Hari Sharanam
नित्य स्तुति और प्रार्थना
Blue Tara Mantra

Related posts

Shiva Panchakshara Stotram | शिव पंचाक्षर स्तोत्र | ଶିବ ପଞ୍ଚାକ୍ଷର ସ୍ତୋତ୍ର

bbkbbsr24

नमामि ते गजाननं | श्री गणेश स्तुति | Shree Ganesh Stuti | Namami Te Gajananam

bbkbbsr24

Devi Aparadha Kshamapan Stotram Lyrics in English | ଦେବୀ ଅପରାଧ କ୍ଷମାପନ ସ୍ତୋତ୍ର

bbkbbsr24